कमल का पर्यायवाची शब्द क्या है

 हमारी भारतीय संस्कृति में शब्दों का महत्व अपार है  भारतीय संस्कृति में बहुत सारे शब्दों के पर्यायवाची शब्द हैं, जो सभी को खासतौर पर रुचि पैदा करते हैं। इस लेख में हम आपको “कमल का पर्यायवाची शब्द” के बारे में विस्तार से बताएंगे, जो भारतीय संस्कृति में सुंदरता का प्रतीक हैं।

कमल का पर्यायवाची शब्द 

कमल एक लोकप्रिय पुष्प है जो अपनी सुंदरता, पावनता, और महत्वपूर्ण सांस्कृतिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। कमल का पर्यायवाची शब्द अनेक हैं जो भारतीय संस्कृति में व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता हैं। यहाँ कुछ मुख्य तोर पर पर्यायवाची शब्द दिए जाएंगे:

कमल का पर्यायवाची शब्द

सरोज: सरोज शब्द संस्कृत में कमल के लिए उपयोग होता है। यह शब्द कमल की पुष्पदल पर उत्पन्न होता है, और इसका अर्थ होता है “सफेद फूल”।

पंकज: पंकज शब्द भी कमल के लिए उपयोग होता है, जिसका अर्थ होता है “कीचड़ में उत्पन्न होने वाला”। 

जलज: जलज शब्द का उपयोग भी कमल के लिए किया जाता है, जो भारतीय संस्कृति में “जल से उत्पन्न होने वाला” का अर्थ होता है। इसे कमल की पुष्पदल के उभरते हुए दृश्य को दर्शाने के लिए उपयोग किया जाता है।

रजीव: रजीव शब्द को भी कमल के पर्यायवाची शब्द को उपयोग किया जाता है। इसका अर्थ होता है “रक्त से उत्पन्न होने वाला” और यह कमल की पुष्पदल की लालिमा को दर्शाने के लिए प्रयुक्त होता है।

नलिन: नलिन शब्द भी कमल के पर्यायवाची शब्दों में उपयोग किया जाता है। इसका अर्थ होता है “नल से उत्पन्न होने वाला”। यह शब्द कमल की पुष्पदल की आकृति और सुंदरता को दर्शाने के लिए प्रयुक्त होता है।

पुण्डरीक: पुण्डरीक शब्द भी कमल के पर्यायवाची शब्दों में से एक है, जिसका अर्थ होता है “पुष्पदल जो सफेद होता है”। यह शब्द कमल की पुष्पदल के गहरे रंग को दर्शाने के लिए प्रयुक्त होता है।

कमल का पर्यायवाची शब्द:-

कमल को जलज, पंकज, अम्बुज, सरोज, शतदल, नीरज, इन्दीवर, सरसिज, अरविन्द, नलिन, उत्पल, सारंग, शतपत्र, राजीव, पद्म, अब्ज, पुण्डरीक, सरसीरुह, वारिज, कुशेशय, तामरस, अरविंद, शतदल, कुमुदनी, कुवलय, पंकरुह, कंज, राजीव, इन्दीवर, मकरन्द, कोकनद, इंदीवर, सरोरुह, परिजात, पाथोज, अंबुज, अम्भोज, वनज, पुष्कर, महोत्पल, लेखनी, खड़का आदि कहते

इन पर्यायवाची शब्दों का प्रयोग भारतीय संस्कृति में व्यापक रूप से होता है और कमल के सौंदर्य और महत्व को और भी उत्कृष्ट करता है।

Leave a Comment